जानिए 51 शक्तिपीठ के बारे में

51
120
51-shakti-peeth

पुराणों के अनुसार सती के शव के विभिन्न अंगों से शक्तिपीठों का निर्माण हुआ था। इसके पीछे एक विशेष कथा है, बताते हैं कि दक्ष प्रजापति ने कनखल (हरिद्वार) में ‘बृहस्पति सर्व’ नामक यज्ञ रचाया। उस यज्ञ में ब्रह्मा, विष्णु, इंद्र और अन्य देवी-देवताओं को आमंत्रित किया गया, लेकिन उन्‍होंने जान-बूझकर अपने जमाता भगवान भगवान शंकर को नहीं बुलाया। शंकर जी की पत्नी और दक्ष की पुत्री सती पिता द्वारा न बुलाए जाने पर और भोलेनाथ के रोकने पर भी यज्ञ में भाग लेने गईं। यज्ञ-स्थल पर सती ने अपने पिता दक्ष से शंकर जी को आमंत्रित न करने का कारण पूछा और पिता से उग्र विरोध प्रकट किया। इस पर दक्ष प्रजापति ने शिव जी को अपशब्द कहे। इस अपमान से पीड़ित हुई सती ने यज्ञ के अग्नि कुंड में कूदकर अपनी प्राणाहुति दे दी। भगवान शंकर को जब इस दुर्घटना का पता चला तो क्रोध से उनका तीसरा नेत्र खुल गया और वे भयंकर तांडव करने के लिए उद्यत हो गए। भगवान के आदेश पर उनके गणों के उग्र कोप से भयभीत सारे देवता ऋषिगण यज्ञस्थल से भाग गये। शंकर जी ने यज्ञकुंड से सती के पार्थिव शरीर को निकाल कंधे पर उठा लिया और दुःखी हो कर पृथ्‍वी पर घूमते हुए तांडव करने लगे। तब सम्पूर्ण विश्व को प्रलय से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को कई टुकड़ों में काट दिया। वे टुकड़े जिन जगहों पर गिरे वे स्थान शक्तिपीठ कहलाए। 

देवी पुराण के अनुसार 51 शक्तिपीठों की स्थापना की गयी है और यह सभी शक्तिपीठ बहुत पावन तीर्थ माने जाते हैं। वर्तमान में यह 51 शक्तिपीठ पाकिस्तान, भारत, श्रीलंका,और बांग्लादेश, के कई हिस्सों में स्थित है।

कुछ महान धार्मिक ग्रंथ जैसे शिव पुराण, देवी भागवत, कालिक पुराण और अष्टशक्ति के अनुसार चार प्रमुख शक्ति पिठों को पहचाना गया है, जो निम्नलिखित हैं

1- हिंगुल या हिंगलाज, कराची, पाकिस्तान से लगभग 125 किमी उत्तर-पूर्व में स्‍थित है यहां देवी का ब्रह्मरंध्र (सिर का ऊपरी भाग) गिरा। यहां देवी कोट्टरी नाम से स्‍थापित हैं।

पकिस्तान, कराची से १२५ किमी उत्तर पूर्व में हिंगला या हिंगलाज शक्तिपीठ स्थित है। यहाँ माता माता सती का सर गिरा था। कराची से वार्षिक तीर्थ यात्रा अप्रैल के महीने में शुरू होती है। यहां वाहन द्वारा पहुंचने में लगभग 4 से 5 घंटे लगते हैं

2-  करवीरपुर या शिवहरकर यहां देवी की आंख गिरी थी और वे महिष मर्दिनी कहलाती हैं।

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित यह शक्तिपीठ है, जहां माता की आंखें गिरी थी। यहां की शक्ति महिषासुरमदिनी तथा भैरव क्रोधशिश हैं। उल्लेख है कि वर्तमान कोल्हापुर ही पुराण प्रसिद्ध करवीर क्षेत्र है। ऐसा उल्लेख देवीगीता में मिलता है। कोल्हापुर सड़क, रेलवे और वायु मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम बस स्टैंड कोल्हापुर में है। हैदराबाद, मुम्बई आदि जैसे विभिन्न शहरों से कई सीधी बसें हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन कोल्हापुर में है।

3- सुगंध, बांग्लादेश में शिकारपुर, बरिसल से 20 किमी दूर सोंध नदी के किनारे गिरी देवी की नासिका और उनका नाम है सुनंदा।

बांग्लादेश के शिकारपुर से 20 किमी दूर सोंध नदी के किनारे स्थित है माँ सुगंध का शक्तिपीठ है जहाँ माता माता सती की नासिका गिरी थी। भारत से जाने वाले लोगों को इस तीर्थ यात्रा के लिए वीजा प्राप्त करना होगा। श्रद्धालु वायु, समुद्र या सड़क के माध्यम से इस शक्तिपीठ तक पहुंच सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए, बरीयाल शहर में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है।

4- अमरनाथ, पहलगांव, काश्मीर के पास देवी का गला गिरा था और वे यहां महामाया के रूप में स्‍थापित हैं।

कश्मीर के पहलगाव जिले के पास माता का कंठ गिरा था। इस सशक्तिपीठ को महामाया के नाम से जाना जाता है। जम्मू और श्रीनगर सड़क के माध्यम से जुड़े हुए हैं। यात्रा के इस भाग के लिए बसें उपलब्ध की जा सकती हैं। जम्मू और श्रीनगर तक पहुंचने के लिए हवाई रास्ते का भी प्रयोग किया जा सकता है।

5- ज्वाला जी, कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश में हैं जहां देवी की जीभ गिरी थी उनका नाम पड़ा सिधिदा या अंबिका।

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में माता माता सती की जीभ गिरी थी। इस शक्तिपीठ को ज्वालाजी स्थान कहते हैं। यह हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा घाटी से 30 किमी दक्षिण की और में स्थित है, धर्मशाला से 60 किमी की दूरी पर है। मनाली, देहरादून और दिल्ली आदि से धर्मशाला के लिए कई निजी बस उपलब्ध की जा सकती हैं।

6- जालंधर, पंजाब में छावनी स्टेशन निकट देवी तलाब में उनका बांया वक्ष गिरा और वे त्रिपुरमालिनी नाम से स्‍थापित हुईं।

पंजाब के जालंधर छावनी के पास देवी तलाब है जहाँ माता का बायाँ वक्ष (स्तन) गिरा था। यह निकटतम रेलवे स्टेशन से लगभग 1 किलोमीटर दूर है और शहर के केंद्र में स्थित है।

7- अम्बाजी मंदिर, गुजरात में देवी का हृदय गिरा था और वे अम्बाजी कहलाईं। 

8- गुजयेश्वरी मंदिर, नेपाल, में पशुपतिनाथ मंदिर के साथ ही है जहां देवी के दोनों घुटने गिरे बताये जाते हैं। यहां देवी का नाम महाशिरा है।

नेपाल के पशुपतिनाथ नाथ में स्थित इस शक्तिपीठ में माँ माता सती के दोनों घुटने गिरे थे। यहां पहुंचने के कई साधन है। श्रद्धालु बस, ट्रेन और हवाई रास्ते द्वारा काठमांडू पहुंच सकते हैं।

9- मानस, कैलाश पर्वत, मानसरोवर, में तिब्ब्त के निकट एक पाषाण शिला के रूप में मौजूद हैं देवी। यहां उनका दायां हाथ गिरा और वे दाक्षायनी कहलाईं।

तिब्बत में स्थित मानसरोवर के पास माता का यह शक्तिपीठ स्थापित है। इसी जगह पर माता माता सती का दायाँ हाथ गिरा था। भारतीय श्रद्धालुओं की एक सीमित संख्या को कैलाश मानसरोवर हर साल यात्रा करने की अनुमति है। भारतीय पक्ष से कैलाश पर्वत तक पहुंचने के लिए दो मार्ग हैं। उनका उल्लेख नीचे दिया गया है: मार्ग 1: लिपुलख पास मार्ग दिल्ली में 3-4 दिन के प्रवास के साथ शुरू होता है। मार्ग 2: नाथु ला पास मार्ग यात्रा दिल्ली से 3-4 दिन के प्रवास के साथ शुरू होती है।

10- बिराज, उत्कल, उड़ीसा में देवी की नाभि गिरी और वे विमला बनीं।

यह शक्ति पीठ उड़ीसा के उत्कल में स्थित है। यहाँ पर माता माता सती की नाभि गिरी थी। कटक, भुवनेश्वर, कोलकाता और ओडिशा के अन्य छोटे शहरों से बस का लाभ लेने से पर्यटक स्थल पर पहुंच सकते हैं। निकटतम रेलवे स्टेशन जाजपुर केंझार रोड रेलवे स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा भुवनेश्वर है।

11- गंडकी नदी के तट पर, पोखरा, नेपाल में मुक्तिनाथ मंदिर में देवी का मस्तक गिरा और वे गंडकी चंडी कहलाईं।

नेपाल में गंडकी नदी के तट पर पोखरा नामक स्थान पर स्थित मुक्तिनाथ शक्तिपीठ स्थित है जहाँ माता का मस्तक या गंडस्थल गिरा था। काठमांडू से पोखरा और फिर पोखरा से जेमॉम हवाई अड्डे तक जाया जा सकता है। वहां से मुक्तिनाथ शक्तिपीठ तक जीप ली जा सकती है। काठमांडू (नेपाल की राजधानी) में एक समर्पित हवाई अड्डा है, और इस हवाई अड्डे में दोनों राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का प्रावधान है।

12- बाहुल, अजेय नदी तट, केतुग्राम, कटुआ, वर्धमान जिला, में पश्चिम बंगाल से 8 किमी दूर बहुला देवी हैं जहां देवी का बायां हाथ गिरा था। 

बंगाल से वर्धमान जिला से 8 किमी दूर अजेय नदी के तट पर स्थित बाहुल शक्तिपीठ स्थापित है जहाँ माता माता सती का बायां हाथ गिरा था। देश के अन्य प्रमुख शहरों से कटवा तक कोई नियमित उड़ानें नहीं हैं। निकटतम हवाई अड्डा नेताजी सुभाष चंद्र हवाई अड्डा है। कातावा नियमित ट्रेनों के माध्यम से देश के अन्य प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

13- उज्जनि, गुस्कुर स्टेशन से वर्धमान जिला, पश्चिम बंगाल में दायीं कलाई गिरी और मंगल चंद्रिका देवी की स्‍थापना हुई।

बंगाल में वर्धमान जिले के उज्जय‍िनी नामक स्थान पर माता की दायीं कलाई गिरी थी। निकटतम रेलवे स्टेशन गसकारा स्टेशन है जो मंदिर से लगभग 16 किमी दूर है। निकटतम हवाई अड्डा डमडुम हवाई अड्डे है। वहां से शक्ति पीठ तक पहुंचने के लिए कार या ट्रेन उपलब्ध की जा सकती है।

14- माताबाढ़ी पर्वत शिखर, निकट राधाकिशोरपुर गाव, उदरपुर, त्रिपुरा में दायां पैर गिरा और देवी त्रिपुर सुंदरी बनीं।

त्रिपुरा के उदरपुर के निकट राधाकिशोरपुर गाँव पर माता का दायाँ पैर गिरा था। निकटतम हवाई अड्डा अगरतला में है, जहां से आप आसानी से सड़क तक मंदिर पहुंच सकते हैं। निकटतम रेल प्रमुख एनए ई रेलवे पर कुमारघाट है। यह अगरतला से 140 किमी की दूरी पर है। यहां से आप मंदिर तक पहुंचने के लिए बस या टैक्सी चुन सकते हैं।

15- छत्राल, चंद्रनाथ पर्वत शिखर, निकट सीताकुण्ड स्टेशन, चिट्टागौंग जिला, बांग्लादेश में गिरी दांयी भुजा और नाम पड़ा भवानी।

बांग्लादेश में चिट्टागौंग (चटगाँव) जिला के निकट चंद्रनाथ पर्वत शिखर पर छत्राल (चट्टल या चहल) में माता की दायीं भुजा गिरी थी। रेल गाड़ियां और बसे, चटगांव से, ढाका से (6 घंटे), सिलेहट (6 घंटे) और अन्य शहरों से उपलब्ध हैं। यहां एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे भी है।

16- त्रिस्रोत, सालबाढ़ी गांव, बोडा मंडल, जलपाइगुड़ी, पश्चिम बंगाल में मां का बायां पैर गिरा और वे भ्रामरी देवी कहलाईं।

बंगाल के सालबाढ़ी ग्राम स्‍थित त्रिस्रोत स्थान पर माता का बायाँ पैर गिरा था। हम हवा या रेल द्वारा पंचागढ़ तक नहीं पहुंच सकते। ढाका और पंचगढ़ के बीच सड़क की दूरी 344 कि.मी. है। हिनो-कुर्सी कोच सेवाएं (निजी क्षेत्र), ढाका के गब्तपोली, शेमॉली और मीरपुर रोड बस टर्मिनलों से, पंचागढ़ शहर तक उपलब्ध हैं। यहां पहुंचने में लगभग 8 घंटे लगते हैं।

17- कामगिरि, कामाख्या, नीलांचल पर्वत, गुवाहाटी, असम में उनकी योनि गिरी और वे कामाख्या रूप में प्रसिद्ध हुईं।

असम के गुवाहाटी जिले में स्‍थित नीलांचल पर्वत के कामाख्या स्थान पर माता का योनि भाग गिरा था। गुवाहाटी असम की राजधानी है, और सभी प्रकार की यात्रा सुविधाओं से निपुण है। यदि हम ट्रेन से जाते हैं और सीधे मंदिर से संपर्क करना चाहते हैं, तो हमें निलाचल स्टेशन पर उतरना होगा। वहां से, पहाड़ी पर चढ़ने के लिए दो मार्ग हैं एक कदम मार्ग (लगभग 600 कदम) और बस मार्ग (कामख्या द्वार के माध्यम से, लगभग 3 किलोमीटर।

18- जुगाड़्या, खीरग्राम, वर्धमान जिला, पश्चिम बंगाल में दायें पैर का अंगूठा गिरा और नाम मिला जुगाड्या।

पश्चिम बंगाल के वर्धमान जिले के पर माता के दाएँ पैर का अँगूठा गिरा था। यह शक्ति पीठ पश्चिम बंगाल के वर्धमान से लगभग 32 किलोमीटर दूर स्थित है। हमें निगम स्टेशन से बर्दवान-कटोआ रेलवे लेनी चाहिए।

19- वहीं कालीपीठ, कालीघाट, कोलकाता में दायें पैर का अंगूठा गिरा और वे मां कालिका बनीं।

कोलकाता के कालीघाट में माता के बाएँ पैर का अँगूठा गिरा था। यह पीठ स्थान हुगली नदी के पूर्वी किनारे पर स्थित है। निकटतम रेलवे स्टेशन हावड़ा है और निकटतम मेट्रो स्टेशन कालीघाट है। मंदिर का दौरा करने का सबसे अच्छा समय सुबह या दोपहर है।

20- प्रयाग, संगम, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में मां ललिता के हाथ की अंगुली गिरी।

उत्तर प्रदेश के इलाहबाद शहर के संगम तट पर माता की हाथ की अँगुली गिरी थी। इस शक्तिपीठ को ललिता के नाम से भी जाना जाता हैं। इलाहाबाद और ललिता देवी मंदिर (शक्ति पीठ) के बीच लगभग ड्राइविंग दूरी 3 किलोमीटर है।

21- जयंती नाम से स्‍थापित है कालाजोर भोरभोग गांव, खासी पर्वत, जयंतिया परगना, सिल्हैट जिला, बांग्लादेश में देवी जहां उनकी बायीं जंघा गिरी।

यह शक्तिपीठ आसाम के जयंतिया पहाड़ी पर स्थित है जहां देवी माता सती की बाईं जंघा गिरी थी। यहां देवी माता सती को जयंती और भगवान शिव को कृमाशिश्वर के रूप में पूजा की जाती है।

22- किरीट नाम से ही स्‍पष्‍ट है कि किरीटकोण ग्राम, मुर्शीदाबाद जिला, पश्चिम बंगालमें देवी का मुकुट गिरा और वे विमला कहलाईं। 

पश्चिम बंगाल के मुर्शीदाबाद जिला के किरीटकोण ग्राम के पास माता का मुकुट गिरा था। मुर्शिदाबाद कोलकाता से 239 किलोमीटर की दूरी पर है और और यहां पहुंचने में लगभग 6 घंटे लगते हैं।

23- मणिकर्णिका घाट, काशी, वाराणसी, उत्तर प्रदेश में उनकी मणिकर्णिका गिरी और वे विशालाक्षी और मणिकर्णी रूप में प्रसिद्ध हुईं।

उत्तरप्रदेश के काशी में मणिकर्णिक घाट पर माता के कान की बाली गिरी थी। वाराणसी के दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं: शहर के केंद्र में वाराणसी जंक्शन, और मुगल सराय जंक्शन शहर लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर है। वाराणसी हवाई अड्डा शहर के केंद्र से लगभग 25 किलोमीटर दूर है।

24- कन्याश्रम, भद्रकाली मंदिर, कुमारी मंदिर, तमिल नाडु में देवी की पीठ गिरी और वे श्रवणी कहलाईं।

कन्याश्रम में माता का पीठ गिरी थी। इस शक्तिपीठ को सर्वाणी के नाम से जाना जाता है।कन्याश्राम को कालिकशराम या कन्याकुमारी शक्ति पीठ के रूप में भी जाना जाता है।कन्याकुमारी दक्षिण भारत के सभी शहरों से सड़क के मार्ग से जुड़ा हुआ है। कन्याकुमारी ब्रॉड गेज द्वारा त्रिवेंद्रम, दिल्ली और मुंबई से जुड़ा हुआ है। तिरुनेलवेली (85 किमी) अन्य नजदीकी रेलवे जंक्शन है जो सड़क मार्ग द्वारा नागरकोइल (19 किमी) तक पहुंचा जा सकता है।निकटतम हवाई अड्डा त्रिवेंद्रम (87 किमी) मे स्थित है

25- कुरुक्षेत्र, हरियाणा में गिरी एड़ी और माता सावित्री का मंदिर स्‍थापित हुआ।

हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले में माता के टखने गिरे थे। इस शक्तिपीठ को सावित्री के नाम से जाना जाता है। थनेसर (स्टेशनेश्वर / कुरिक्षेत्र) दिल्ली से 160 किलोमीटर और चंडीगढ़ से 90 किलोमीटर दूर है। यह पिपली से 6 किलोमीटर की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 1 पर एक महत्वपूर्ण सड़क जंक्शन पर है। यह कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन से 3 किलोमीटर और पिपली बस स्टैंड से 7 किलोमीटर दूर है।

26- मणिबंध, गायत्री पर्वत, पुष्कर, अजमेर में देवी की दो पहुंचियां गिरी थीं। यहां देवी का नाम है गायत्री।

मनीबंध, अजमेर से 11 किमी उत्तर-पश्चिम में पुष्कर के पास गायत्री पहाड़ के पास स्थित है जहां माता की कलाई गिरी थी।अजमेर से ट्रेन और बस सुविधा उपलब्ध हैं, और वहां से, हमें पुष्कर पहुंचने के लिए टैक्सी या रिक्शा मिल सकता है। पुष्कर से निकटतम हवाई अड्डा जयपुर में है।

27- श्री शैल, जैनपुर गांव, के पास सिल्हैट टाउन, बांग्लादेश में देवी का गला गिरा, यहां उनका नाम महालक्ष्मी है।

बांग्लादेश के सिल्हैट जिले के पास शैल नामक स्थान पर माता का गला (ग्रीवा) गिरा था। बांग्लादेश को दुनिया के किसी भी हिस्से से पहुंचा जा सकता है। राष्ट्रीय हवाई अड्डा ढाका में है, जो शहर से 20 किमी की दूरी पर है।

28- कांची, कोपई नदी तट पर पश्चिम बंगाल में देवी की अस्थि गिरी और वे देवगर्भ रूप में स्‍थापित हैं।

कंकाललाला, बीरभूम जिले में बोलीपुर स्टेशन के 10 किमी उत्तर-पूर्व में कोप्पई नदी के तट पर, देवी स्थानीय रूप से कंकालेश्वरी के रूप में जानी जाती है, जहां माता का श्रोणि गिरा था।

29- मध्य प्रदेश के अमरकंटक में कमलाधव नाम के स्‍थान पर शोन नदी के किनारे एक गुफा में, मां काली स्‍थापित हैं जहां उनका बायां नितंब गिरा।

मध्यप्रदेश के अमरकंटक के कालमाधव स्थित शोन नदी के पास माता का बायाँ नितंब गिरा था। शाहडोल, उमरिया, जबलपुर, रीवा, बिलासपुर, अनुपपुर और पेंद्र रोड से अमरकंटक शहर तक बस सुविधा उपलब्ध की जा सकती है। निकटतम हवाई अड्डा, जबलपुर (228 के.एम.) और रायपुर (230 कि.मी.) हैं।

30- शोन्देश, अमरकंटक, मध्य प्रदेश में उनका दायां नितंब गिरा और नर्मदा नदी का उद्गम होने के कारण देवी नर्मदा कहलाईं।

मध्यप्रदेश के अमरकंटक जिले में स्थित नर्मदा के उद्गम पर माता का दायाँ नितंब गिरा था। शाहडोल, उमरिया, जबलपुर, रीवा, बिलासपुर, अनुपपुर और पेंद्र रोड से अमरकंटक शहर तक बस सुविधा उपलब्ध की जा सकती है। निकटतम हवाई अड्डा, जबलपुर (228 के.एम.) और रायपुर (230 कि.मी.) हैं।

31- रामगिरि, चित्रकूट, उत्तर प्रदेश में दायां वक्ष गिरा नाम पड़ा शिवानी।

उत्तरप्रदेश के चित्रकूट के पास रामगिरि स्थान पर माता का दायाँ स्तन गिरा था। चित्रकूट के लिए निकटतम रेल प्रमुख चित्रकूट धाम (11 किलोमीटर) झांसी-माणिकपुर मुख्य लाइन पर है। चित्रकूट बांदा, झांसी, महोबा, चित्रकूट धाम, हरपालपुर, सतना और छतरपुर के साथ सड़क से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डा खजुराहो (175 के.एम.) में है। मंदाकीनी नदी के तट पर चित्रकूट के 2 किमी दक्षिण में स्थित जानकी सरोवर/ जानकी कुंड नाम का एक पवित्र तालाब, शक्तिपीठ के रूप में माना जाता है। कुछ लोग इसे राजगिरि (आधुनिक राजगीर) कहते हैं,यह एक प्रसिद्ध बौद्ध तीर्थस्थान हैं। राजगीर के गिद्ध का पीक (ग्रीधकोटा / ग्राध्रुका) को शक्ति पिठ के रूप में माना जाता है।

32- वृंदावन, भूतेश्वर महादेव मंदिर के पास उत्तर प्रदेश में दवी के केशों का गुच्छ और चूड़ामणि गिरी। वे यहां उमा नाम से प्रसिद्ध हुईं।

उत्तरप्रदेश के मथुरा जिले के वृंदावन तहसील में माता के बाल के गुच्छे गिरे थे। वृंदावन आगरा से 50 किलोमीटर और दिल्ली से 150 किलोमीटर दूर है। निकटतम रेलवे स्टेशन मथुरा, 12 किमी की दूरी पर है।

33- शुचि, शुचितीर्थम शिव मंदिर के पास कन्याकुमारी, तमिल नाडु में ऊपरी दाढ़ गिरी नाम पड़ा नारायणी।

तमिलनाडु के कन्याकुमारी-तिरुवनंतपुरम मार्ग पर शुचितीर्थम शिव मंदिर है, जहाँ पर माता की ऊपरी दंत (ऊर्ध्वदंत) गिरे थे। कन्याकुमारी तक पहुंचने के लिए रेलवे सबसे सामान्य साधन है। कन्याकुमारी से, सुचितंद्र मंदिर तक पहुंचने के लिए स्थानीय परिवहन की आवश्यकता है। निकटतम हवाई अड्डा त्रिवेन्द्रम है।

34- वहीं पंचसागर में उनकी निचली दाढ़ गिरी नाम पड़ा वाराही।

पंचासागर शक्ति पीठ, उत्तर प्रदेश के वाराणसी के पास स्थित जहां मां माता सती के निचले दंत गिरे थे। निकटतम हवाई अड्डा इलाहाबाद में है और यहां तक राष्ट्रीय उड़ानें उपलब्ध हैं। अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए, दिल्ली निकटतम हवाई अड्डा है। निकटतम रेलवे स्टेशन वाराणसी रेलवे स्टेशन है। दिल्ली, अहमदाबाद, पटना और अन्य प्रमुख शहरों सड़क द्वारा वाराणसी पहुंचा जा सकता है।

35- बांग्लादेश के करतोयतत, भवानीपुर गांव में उनकी बायीं पायल गिरी और वे अर्पण नाम से जानी गई।

अपर्णा शक्ति पीठ एक ऐसी जगह है जहां देवी माता सती के बाईं पायल गिरी थी। यहां देवी को अपर्णा या अर्पान के रूप में पूजा की जाती है जो कि कुछ भी नहीं खाती और भगवान शिव को बैराभा का रूप मिला। भवानीपुर गांव करवतया नदी के किनारे पर है, शेरपुर (सेरापुर) से 28 किमी। हम ढाका से भानापुर जामुना ब्रिज तक जा सकते हैं। सिराजगंज जिले में चांदिकोना गुजरने के बाद, हम घोगा बोट-टूला बस स्टॉप पर पहुंचते हैं, जहां से भावानिपपुर मंदिर पास है।

36- श्रीपर्वत- श्रीसुंदरी में दायीं पायल गिरी और स्‍थापित हुईं देवी श्री सुंदरी।

कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र के पर्वत पर माता के दाएँ पैर की पायल गिरी थी। जुलाई से सितंबर तक सड़क से जाने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। नजदीकी रेलवे स्टेशन जम्मू तवी है जो लद्दाख से 700 किमी दूर है। निकटतम हवाई अड्डा लेह में है

37- पश्चिम बंगाल के विभाष, तामलुक, पूर्व मेदिनीपुर जिला में देवी कपालिनी (भीमरूप) की बायीं एड़ी गिरी।

पश्चिम बंगाल के जिला पूर्वी मेदिनीपुर स्थान पर माता की बाएं टखने गिरे थे। यह कोलकाता से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर है, और बंगाल की खाड़ी के करीब रून्नारयन नदी के तट पर स्थित है। निकटतम रेलवे स्टेशन तमलुक ही है।

38- प्रभास, जूनागढ़ जिला, गुजरात में देवी चंद्रभागा का आमाशय गिरा।

गुजरात के जूनागढ़ जिले में स्थित सोमनाथ मंदिर के प्रभास क्षेत्र में माता का उदर गिरा था। वायुमार्ग के संदर्भ में, दोनों अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय हवाईअड्डा जूनागढ़ के पास स्थित हैं। देश के हर हिस्से से ट्रेनें इस शहर की तरफ आती हैं। कई निजी बस सेवाएं हैं जो विभिन्न शहरों से जुनागढ़ तक जाती हैं।

39- भैरव पर्वत पर क्षिप्रा नदी के किनारे उज्जयिनी, मध्य प्रदेश में देवी के ऊपरी होंठ गिरे यहां वे अवंति नाम से जानी जाती हैं।

मध्यप्रदेश के उज्जैन नगर में शिप्रा नदी के तट के पास भैरव पर्वत पर माता के ऊपरीओष्ठ गिरे थे। उज्जैन भारत के सभी शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और लोग यहां आने के लिए परिवहन के सभी साधनों का उपयोग कर सकते हैं। इंदौर निकटतम हवाई अड्डा इंदौर मैं है और यह 52 किलोमीटर की दूरी पर है। निकटतम रेलवे स्टेशन उज्जैन ही है।

40- जनस्थान, नासिक, महाराष्ट्र में ठोड़ी गिरी और देवी भ्रामरी रूप में स्‍थापित हुईं।

महाराष्ट्र के नासिक नगर पर माता की ठोड़ी गिरी थी। निकटतम रेलवे स्टेशन और हवाई अड्डा नासिक स्थित है।

41- सर्वशैल राजमहेंद्री, आंध्र प्रदेश में उनके गाल गिरे और देवी को नाम मिला राकिनी या विश्वेश्वरी।

आंध्रप्रदेश के राजामुंद्री क्षेत्र स्थित गोदावरी नदी के तट पर कोटिलिंगेश्वर पर माता के वाम गंड (गाल) गिरे थे। निकटतम रेलवे स्टेशन भी बहुत कम दूरी पर है। लोग रेलवे स्टेशन से स्थानीय बसों सेवा का प्रयोग कर सकते हैं राजमुंदरी रेलवे स्टेशन आंध्र प्रदेश के सबसे बड़े रेलवे स्टेशनों में से एक है। इस मंदिर के निकट प्रमुख शहरों में हवाई अड्डे की सेवाएं उपलब्ध हैं। राजमुंदरी हवाई अड्डा मधुरपाड़ी के पास स्थित है, वह शहर से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर है।

42- बिरात, राजस्थान में उनके बायें पैर की उंगुली गिरी। देवी कहलाईं अंबिका।

यह शक्ति पीठ राजस्थान मैं भरतपुर के विराट नगर में स्थित है जहां माता के बाएं पैर कि उंगलियां गिरी थी। निकटतम हवाई अड्डा जयपुर है और राष्ट्रीय उड़ानों के साथ-साथ यहां से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें भी उपलब्ध हैं।भरतपुर रेलवे स्टेशन पर कई सीधी ट्रेन उपलब्ध हैं। भरतपुर रेलवे स्टेशन से अंबिका शक्तिपीठ तक पहुंचने के लिए स्थानीय ट्रेन से जाना पड़ता है।

43- रत्नावली, हुगली, पश्चिम बंगाल में देवी का दायां कंघा गिरा और उनका नाम है कुमारी।

बंगाल के हुगली जिले के खानाकुल-कृष्णानगर मार्ग पर माता का दायां कंधा गिरा था। रेल सड़क परिवहन देश के इस हिस्से में आने का सबसे सामान्य साधन है। यद्यपि इस भाग के लिए कोई सीधी ट्रेन नहीं है, इसलिए तीर्थयात्रियों को यहां तक पहुंचने के लिए ट्रेन बदलने की जरूरत है। हावड़ा एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है जो खानकुल से लगभग 81 किलोमीटर की दूरी पर है। निकटतम हवाई अड्डा कोलकाता (पश्चिम बंगाल की राजधानी) में है, और इस हवाई अड्डे पर दोनों राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का प्रावधान है।

44- मिथिला, भारत-नेपाल सीमा पर देवी उम का बायां कंधा गिरा था।

भारत-नेपाल की सीमा पर जनकपुर रेलवे स्टेशन के निकट मिथिला में माता का बायाँ कंधा गिरा था। निकटतम हवाई अड्डा पटना मैं है। निकटतम रेलवे स्टेशन जनकपुर स्टेशन है। मिथिला – उमा देवी शक्ति पिठ मंदिर तक पहुंचने के लिए कई सार्वजनिक और निजी वाहनों का प्रयोग किया जा सकता है।

45- नलहाटी, बीरभूम, पश्चिम बंगाल में पैर की हड्डी गिरी और देवी का नाम पड़ा कलिका देवी।

पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में माता के स्वर रज्जु गिरी थी। निकटतम बस स्टैंड नालहाटी बस स्टैंड है और

निकटतम रेलवे स्टेशन नालहटी जंक्शन है। निकटतम हवाई अड्डा डमडुम, कोलकाता में स्थित है।

46- कर्नाट में देवी जय दुर्गा के दोनों कान गिरे।

कर्णाट शक्ति पीठ कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश में स्थित है, माता माता सती के दोनों कान गिरे थे। यहां देवी को जयदुर्गा या जयदुर्ग और भगवान शिव को अबिरू के रूप में पूजा की जाती है। निकटतम हवाई अड्डा गगगल हवाई अड्डा है हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में स्थित है, जहां से कांगड़ा केवल 18 किलोमीटर है।

47- वक्रेश्वर पश्चिम बंगाल में भ्रूमध्य गिरा और वे कहलाईं महिषमर्दिनी।

48- यशोर, ईश्वरीपुर, खुलना जिला, बांग्लादेश हाथ एवं पैर यशोरेश्वरी

बांग्लादेश के खुलना जिला के ईश्वरीपुर के यशोर स्थान पर माता के हाथ की हथेली गिरी थी। यह ईश्वरपुर, श्यामनगर उपनगर, सातखिरा जिला, बांग्लादेश में स्थित है। निकटतम हवाई अड्डा बांग्लादेश की राजधानी ढाका में स्थित है, और इस हवाई अड्डे पर दोनों राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का प्रावधान है। दोनों देशों के बीच कोई रेल मार्ग नहीं है, ऐसे में कुछ बसें हैं जो भारत के प्रमुख शहरों से इस पवित्र स्थल तक जाती है।

49- अट्टहास, पश्चिम बंगाल में फुल्‍लारा देवी के होंठ गिरे। 

पश्चिम बंगला के अट्टाहास स्थान पर माता के निचला ओष्ठ गिरा था। यह कोलकाता से 115 किमी दूर है।अहमपुर अहमपुरपुर कटवा रेलवे से लगभग 12 किमी दूर है। नेताजी सुभाष चंद्र हवाई अड्डे निकटतम हवाई अड्डे है, जो कि लाहपुर से लगभग 1 9 6 किलोमीटर दूर है।

50- नंदीपुर, पश्चिम बंगाल में मां नंदनी के गले का हार गिरा था।

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले मी माता का गले का हार गिरा था। बीरभूम में विभिन्न स्थानों से शुरू होने वाली कई सीधी बसें हैं। यह शक्ति पीठ स्थानीय रेलवे स्टेशन स केवल10 मिनट की दूरी पर है। निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा कोलकाता में नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे है।

51- लंका में अज्ञात स्‍थान पर, (एक मतानुसार, मंदिर ट्रिंकोमाली में है, पर पुर्तगली बमबारी में ध्वस्त हो चुका है और महज एक स्तंभ शेष है। यह प्रसिद्ध त्रिकोणेश्वर मंदिर के निकट है) देवी की पायल गिरी यहां वे इंद्रक्षी कहलाती हैं।

श्रीलंका में संभवत: त्रिंकोमाली में माता की पायल गिरी थी। यह पीठ, नैनातिवि (मणिप्लालम) में है, श्रीलंका के जाफना से 35 किलोमीटर, नल्लूर में है। रावण (श्रीलंका के शासक या राजा) और भगवान राम मैं भी यहां पूजा की थी।

Read More – जानिए 12 ज्योतिर्लिंग बारे में

51 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here